May 18, 2024 10:30 am

Search
Close this search box.

केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान रहमानखेड़ा के नये निदेशक बने डॉ. दामोदरन तुकाराम

Picture of BAHUJAN NEWS DESK

BAHUJAN NEWS DESK

मलिहाबाद लखनऊ। केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान रहमानखेड़ा के नये निदेशक का पद डॉ. दामोदरन तुकाराम ने कार्यभार गृहण किया। डॉ.शैलेंद्र राजन के सेवानिवृत्त होने के बाद डॉ. नीलिमा गर्ग एवम डा .देवेंद्र पांडेय ने कार्यकारी निदेशक के रूप में कार्य किया । डॉ. दामोदरन एक ख्यातिप्राप्त उद्यान वैज्ञानिक हैं जो कि गत कई वर्षों से भाकृअनुप-केंद्रीय मृदा लवणता अनुसंधान क्षेत्रीय केंद्र, लखनऊ में प्रधान वैज्ञानिक एवम अध्यक्ष के रूप में कार्य कर रहे थे। कार्यभार ग्रहण करने के बाद उन्होंने संस्थान के वैज्ञानिकों एवम अन्य प्रशासनिक कर्मचारियों को सम्बोधित किया। उन्होने सबके साथ मिलकर संस्थान को आगे ले जाने का संदेश दिया|

डॉ. दामोदरन की वैज्ञानिक उपब्धियों में केले के उकठा रोग प्रबंधन हेतु जैविक उत्पाद आई सी ए आर फ्युजीकॉन्ट, केले की पौध का बीमारियों से बचाव हेतु जैविक टीकाकरण तकनीक मुख्य हैं । इन तकनीकों से केले की बीमारियों के प्रबंधन में काफी मदद मिली है । आई सी ए आर फ्युजीकॉन्ट उत्पाद को विश्व के अन्य देशों में भीं केले के उकठा प्रबंधन हेतु विश्व बाजार में बिक्री के लिये भी लाईसेंस दिया गया है। उन्होंने आम के लिये एक लवण सहिष्णु मूलवृंत एम एल-2 भी विकसित किया जोकि इजराइल के 13-1 से भी अधिक प्रभावी है । उद्यानिकी फसलों की ऊसर एवं बंजर भूमियों में उत्पादकता बढाने के लिये जैविक उत्पाद सी एस आर बायो एवम सी एस आर ग्रोश्योर भी विकसित किये । डॉ.दामोदरन ने बागवानी के क्षेत्र में कई राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कार यथा जावाहर लाल नेहरू पुरस्कार, बायोटेक प्रोडक्ट एवम प्रोसेस विकास एवम व्यवसायीकरण पुरस्कार एवम युवा वैज्ञानिक पुरस्कार प्राप्त किये ।

What does "money" mean to you?
  • Add your answer
error: Content is protected !!