May 18, 2024 9:28 am

Search
Close this search box.

आवारा पशुओं से परेशान किसानो की नहीं बच पा रही फसले

Picture of BAHUJAN NEWS DESK

BAHUJAN NEWS DESK

मलिहाबाद, लखनऊ। मलिहाबाद क्षेत्र अंतर्गत घूमने वाले आवारा पशुओं की तादाद दिन पर दिन बढ़ने से किसान की हालत खराब हैं। दस पशुओ के झुंड खेतों में पहुंचकर किसानों द्वारा कड़ी मेहनत से भूख प्यास को त्याग कर उगायी गयी फसलों को देखते ही देखते चट कर जाते हैं ,जो किसानों के लिए जटिल समस्या बनती जा रही है। जहां किसान पहले रात को अपने -अपने घरों में चैन की नींद सोए रहते थे, वहीं अब उन्हें इस कपकपाती कड़ाके की ठंड में पशुओं द्वारा नुकसान के डर से रातों में टॉर्च व डंडे लेकर रात भर पशुओं को खदेड़ते रहते हैं ताकि वे अपनी फसलो को बचा सके , बावजूद इसके वे अपनी गाढ़ी कमाई की फसलों को बचाने में कामयाब नहीं हो पा रहे हैं। एक ओर जहां किसान इन छुट्टा जानवरों से परेशान है तो वहीं दूसरी ओर बागवानो को भी छुट्टा जानवरों का नुकसान झेलना पड़ रहा है बागों में नीचे लगे और छोटे पेड़ों में कल्लो को यह जानवर खा कर बर्बाद कर डालते हैं जिससे आगामी आने वाली फसल बर्बाद हो रही है।
रात हो या दिन दर्जनो की संख्या में आवारा छुट्टा पशु खेतों में हमला बोल कर देखते ही देखते फसलों को चट कर जाते हैं और बची खुची फसलों को रौंदकर बर्बाद कर देते  है। किसानों ने अपनी फसलों को बचाने के लिए खेतों के किनारे कटीले तारों की बैरिकेडिंग करा रखी है, लेकिन असंख्य आवारा पशुओं का झुंड उन्हें भी लाघंकर फसलों को चर जाते हैं बीते साल हुये नुकसान को देखते हुए इस वर्ष कुछ किसानों ने फसल बोना ही छोड़ दिया है। तहसील क्षेत्र के बहेलिया गांव के किसान गया प्रसाद व सुरेश, विनोद आदि ने बताया कि उन्होंने अपने खेतों में गेहूं, सरसों, सब्जी आदि की फसलें बो रखी हैं। दिन व रात में मवेशियों के झुण्डों ने देखते ही देखते फसलो को चर रहे हैं । बताते चलें कि बीते वर्ष 2022 में बहेलिया गांव निवासी एक किसान अपने खेत में आवारा जानवरों से फसल बचाने के दौरान सांड ने पटक पटक कर मौत के घाट उतार दिया था। बहुत बड़ी समस्या से गुजर रहे हैं किसान जिम्मेदार ग्राम प्रधान सचिव तथा डॉक्टर अपनी अपनी जिम्मेदारी ठीक से नहीं निभाते हुए नजर आ रहे हैं इस संबंध में जब खंड विकास अधिकारी से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि इस मामले की जांच करा कर उचित कार्रवाई की जाएगी।

What does "money" mean to you?
  • Add your answer
error: Content is protected !!