May 18, 2024 10:31 am

Search
Close this search box.

डॉ.अम्बेडकर राष्ट्रीय एकता मंच के राष्ट्रीय अधिवेशन में पहुंचे भारत के 26 प्रदेशों के प्रतिनिधि

Picture of BAHUJAN NEWS DESK

BAHUJAN NEWS DESK

लखनऊ। डॉ.अम्बेडकर राष्ट्रीय एकता मंच का 11वां राष्ट्रीय अधिवेशन उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में गांधी सभागार निकट शहीद स्मारक कैसरबाग लखनऊ में संपन्न हुआ राष्ट्रीय अधिवेशन समारोह का प्रारंभ तथागत बुद्ध एवं बोधी सत्य साहब डॉ अम्बेडकर के प्रतिमा के समक्ष पुष्प अर्पित एवं दीप जलाकर किया गया समारोह की शुरुआत बुद्ध वंदना एवं त्रिशरण पंचशील से हुई संगठन के राष्ट्रीय संरक्षक पूर्व आईएएस मा. राम बहादुर जी ने राष्ट्रीय अधिवेशन कार्यक्रम का उदघाटन किया । सगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष भवननाथ पासवान जी ने कहा कि आज डॉ अम्बेडकर राष्ट्रीय एकता मंच पूरे भारत में एक अलग पहचान बनाते हुए इस अधिवेशन देश के 26 प्रदेशों के प्रतिनिधि सम्मिलित हुए और विभिन्न मुद्दों पर चर्चा किया। चर्चा में विशेष रूप से भारत के संविधान से छेड़छाड़ करने वाले लोगों को खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

निजी क्षेत्र न्यायपालिका और सेवा में आरक्षण की व्यवस्था की मांग हर नागरिक को सामान और सस्ती शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाएं मिले अनुसूचित जाति एवं जनजाति तथा पिछड़े और कमजोर लोगों पर हो रहे अत्याचार पर सरकार रोक लगाएं नए पार्लियामेंट भवन का नामकरण संविधान निर्माता बाबासाहेब डॉ अम्बेडकर के नाम से किया जाए तुरंत में आरक्षण बहाल किया जाए सभी सरकारी विभागों एवं सार्वजनिक पदों की विशेष भर्ती अभियान के तहत भरा जाए नई पेंशन स्कीम को समाप्त कर पुरानी पेंशन स्कीम लागू करें किसानो की उपज का बीमा सीमा एवं न्यूनतम मूल्य बढ़ाई जाए हर नागरिक को समान और सस्ती शिक्षा एवं स्वास्थ्य सेवाएं मिले इन मांगों को लेकर पूरे देश से आए हुए प्रतिनिधियों ने समर्थन किया संविधान खतरे में है निजीकरण जोरों पर है।

सरकारी सेवाएं समाप्त हो रही है बड़ी तादात में नौजवान बेरोजगार बदहाली में जीने को मजबूर है जो लोग सरकारी सेवा में है जिनको सेवा के बाद जीवन यापन के लिए पेंशन जरूरी थी नई पेंशन स्कीम लाकर उनके भविष्य को भी अंधकार में डाल दिया गया है इसलिए भारत में सामाजिक संगठन एवं कर्मचारी संगठन की जिम्मेदारी बनती है की सभी जाति भेद आपस में मनमुट्टा एक दूसरे की आलोचना करने के बजाय मुद्दे के आधार पर एक मंच पर आए जिससे भारत का संविधान निजीकरण लोकतंत्र की रक्षा हो सके ओबीसी एससी एसटी माइनॉरिटी को सरकारी सेवाओं में सभी स्तर पर अनुमान अनुपातिक भागीदारी दिलाने के लिए आंदोलन में साथ दें और साथ मैं चले भी तभी हम कुछ कर पाएंगे और भारत को अखंड अजय एवं समृद्ध भारत का निर्माण कर आज 76 वर्षों की आजादी के उपरांत भी संविधान में प्रदत्त समानता का अधिकार सम्मान शिक्षा व अन्य अधिकारों से समाज को अभी तक वंचित किया गया है।

समानता का अधिकार लागू कर दिया तो गरीबी व अमीरी की खाई की खाई मिट जाती लेकिन ये भ्रष्टाचारी मानसिकता के लोग कभी ऐसा नहीं होने देंगे कार्यक्रम का संचालन इजी एसपी सिंह ने किया मुख्य वक्ताओं में श्री अमृत प्रकाश पूर्व जिला जज राम सुचित पूर्व आईएएस राजेंद्र प्रसाद एडिशनल कमिश्नर माताफेर राकेश कुमार आर पी सरोज डॉक्टर नवनीत किशोर इंजी भीमराज राधेश्याम राम सिंह आसाराम सरोज डॉ.अनिल कुमार फतेह बहादुर सिंह एडवोकेट एसपी एडवोकेट भास्कर पासवान डॉ शिव शक्ति डॉ रवि सरोज बलिराम पासवान अभिषेक चौधरी डॉक्टर अशोक चौधरी राजकुमार चौधरी सुशील कुमार कर्णम किशन आदित्य वर्मा राकेश चंद्र राणा भारत वीर सुभाष पासी शैलेश धानुक हरीश चंद्र डॉक्टर जयप्रकाश शिव बालक दुर्गा प्रसाद इंजीनियर प्रशांत राज एडवोकेट सोहनलाल सुभाष चंद्र डॉअयोध्या प्रसाद डॉ पंकज पासी राम सजीवन इंजीनियर होरीलाल राजाराम रावत दीपक कुमार अंजनी कुमार चक्रवर्ती सुरेश रावत बीपी गौतम शंभू नाथ राम भारत पृथ्वीराज उर्मिला गौतम कल्पना धानुक इंजीनियर रचना मुख्तार रावत आरती रावत रामचंद्र पासवान डॉ जयप्रकाश इंजीनियर अरविंद भानु प्रकाश बालक राम डॉक्टर धीरेंद्र माथुर यशपाल दोहरे वीरेंद्र कुमार हडा आर एन यादव मोहम्मद हनीफ खान राम असारे पटेल पृथ्वीराज यादव अमरनाथ आशीष कुमार राज किशोर नीलमणि नरसिंह राव प्यारेलाल अंबर लाल आदि रहें।

What does "money" mean to you?
  • Add your answer
error: Content is protected !!