May 22, 2024 7:06 am

Search
Close this search box.

सरकार ने राशन कार्ड धारकों के साथ कोटेदारों को दी अब तक की सबसे बड़ी सौगात, राशन की दुकानों पर मिलेगा जनउपयोगी सामान

Picture of BAHUJAN NEWS DESK

BAHUJAN NEWS DESK

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अब सार्वजनिक वितरण प्रणाली के भीतर रोजमर्रा की वस्तुएं तो मौजूद कराई ही जाएंगी इसके साथ ही मिठाई, साबुन, दूध पाउडर के अलाव बेबी केयर जैसे उत्पाद भी मौजूद होंगी। उत्तर प्रदेश में अब सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अनुसार मिठाई, साबुन, दूध पाउडर के उत्पाद समेत रोजमर्रा के काम आने वाली 39 प्रकार की अन्य वस्तुएं मौजूद होंगी।

इसे लेकर खाद एवं रसद विभाग के द्वारा बिक्री वाली चीजों की एक पूरी सूची तैयार कर जारी भी कर दी गयी है। जहां से भारी गाड़ियों वाहनों की आवाजाही हो सके उन मुख्य मार्गों पर स्थित दुकानों पर ऐसी वस्तुएं मौजूद कराई जाएंगी। खाद्य एवं रसद विभाग ने इसे लेकर शासनादेश भी जारी कर दिया है जिसमें इन वस्तुओं की गुणवत्ता तय करने की बात भी कही गई है। विभाग एक उच्चस्तरीय समिति गठित करेगा और वस्तुओं की क्वान्टिटी के बारे में निर्णय लेगा। विभाग तय करेगा कि कौन सी वस्तु कितनी मात्रा मौजूद कराई जाएंगी।

लोगों के द्वारा इस्तेमाल में लाई जाने वाली रोजमर्रा की वस्तुएं जैसे दूध, दूध से बनी चीजें, बिस्कट, ब्रेड, गुड़ और घी और नमकीन, सूखे मेवे या फिर मिठाई, यहां तक कि पैक्ड मसाले, दूध पाउडर और तो और बच्चों के कपड़े भी मौजूद कराई जाएंगी। इन वस्तुओं में राजमा, सोयाबीन, क्रीम तो होगा ही, इसके अतिरिक्त धूपबत्ती, कंघी, आइना, झाडू पोछा, ताला, छाता और रेनकोट जैसी और भी जनउपयोगी वस्तुओं को लोगों के लिए मौजूद कराई जाएंगी।

स्वास्थ्य सुरक्षा संबंधी वस्तुएं

इन दुकानों में मिठाई, साबुन, दूध पाउडर जैसी वस्तुएं भी मौजूद करवाई जाएंगी जिनकी गुणवत्ता को सुनिश्चित किया जाएगा। इन जगहों पर स्वास्थ्य सुरक्षा संबंधी चीजें भी मिल पाएंगी। हैंडवाश, बाथरूम क्लीनर हो या फिर शेविंग किट, बेबी केयर जैसे कि डायपर, साबुन, मसाज ऑयल या फिर बाडी लोशन। ये वस्तुएं मिल पाएंगी।

पहले से मौजूद सामान

फिलहाल राशन की दुकानों पर ऐसे सामान मौजूद हैं- गेहूं, चावल, दाल हो या फिर आटा, चीनी। खाद्य ऑयल हो या फिर मिटटी का ऑयल साबुन, चाय, पेन, कॉपी जैसी चीजें मौजूद हैं। मोटा अनाज, नमक ओआरएस घोल व सेनटरी नैपकीन जैसी चीजें भी मिलती हैं।

What does "money" mean to you?
  • Add your answer
error: Content is protected !!