May 18, 2024 9:30 pm

Search
Close this search box.

बेसिक शिक्षामंत्री के आवास पर भर्ती की मांग को लेकर अभ्यर्थियों का प्रदर्शन

Picture of BAHUJAN NEWS DESK

BAHUJAN NEWS DESK

लखनऊ। शुक्रवार को उत्तर प्रदेश में बेसिक शिक्षा विभाग में नई शिक्षक भर्ती की मांग को लेकर अभ्यर्थियों ने बेसिक शिक्षा मंत्री संदीप सिंह के आवास पर प्रदर्शन किया लेकिन मंत्री के विदेश दौरे पर होने के कारण उनसे मुलाकात नहीं हो सकी। उत्तर प्रदेश में बेसिक शिक्षा विभाग में 69,000 सहायक शिक्षक भर्ती के बाद आज तक कोई भी नई भर्ती नहीं निकाली गई है,जबकि प्रत्येक वर्ष बेसिक शिक्षा विभाग में 15,000 के आस-पास शिक्षक रिटायर होते हैं वहीं,दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश सरकार ने 69,000 सहायक शिक्षक भर्ती का मुद्दा वर्ष-2021 में जब सुप्रीम कोर्ट में चल रहा था उस समय वहां एक हलफनामा देकर सुप्रीम कोर्ट को यह बताया था कि बेसिक शिक्षा में लगभग 51,000 पद रिक्त है। नई शिक्षक भर्ती की मांग कर रहे अभ्यर्थियों का कहना है कि यदि इस आधार पर देखा जाए तो बेसिक शिक्षा विभाग में इस समय लगभग 70,000 से अधिक पद रिक्त चल रहे हैं,लेकिन बेसिक शिक्षा विभाग नई शिक्षक भर्ती नहीं दे रहा। जिस कारण नई शिक्षक भर्ती की तैयारी कर रहे बीएड एवं डीएलएड पास लाखों अभ्यर्थी इंतजार में बैठे हैं तथा उनमें सरकार के प्रति भारी आक्रोश है। गौरतलब है कि नई शिक्षक भर्ती की मांग को लेकर अभ्यर्थी कई दिनों से लखनऊ ईको गार्डन में धरना प्रदर्शन कर रहे हंै,लेकिन शुक्रवार को उन्होंने बेसिक शिक्षा मंत्री के आवास पर धरना प्रदर्शन किया तथा मंत्री से मिलने की बात कही लेकिन उन्हें बताया गया कि मंत्री नीदरलैंड के दौरे पर हैं तथा उनके आने पर आपकी मुलाकात करा दी जाएगी। इस दौरान शिक्षक भर्ती आन्दोलन में लम्बे समय से जुड़े राजेश चौधरी ने बताया कि नई शिक्षक भर्ती आने में कई पेच है,जिसको लेकर बेसिक शिक्षा विभाग पद रिक्त होने के बावजूद भी नई भर्ती नहीं निकाल रहा है। जिसमें सबसे प्रमुख कारण है कि बेसिक की प्राइमरी भर्ती में बीएड रहेगा या नहीं रहेगा इसको लेकर संशय है,क्योंकि बीएड बनाम डीएलएड का मामला सुप्रीम कोर्ट में रिजर्व है जिसका आर्डर अभी तक डिलीवर नहीं हुआ है। यही कारण है कि सरकार ने पिछली टीईटी परीक्षा के बीएड धारी अभ्यर्थियों के प्रमाण पत्र अभी तक वितरित नहीं किए हैं। ज्ञातव्य है कि बेसिक शिक्षा मंत्री संदीप सिंह विधानसभा में यह बयान भी दे चुके हैं कि हमारे पास छात्र शिक्षक अनुपात समान है तथा अब हमें नए शिक्षकों की जरूरत नहीं है तथा पिछली भर्तियों के जितने भी मामले न्यायालय में चल रहे हैं सिर्फ उन्हीं मामलों को हल किया जाएगा। वहीं,नई शिक्षक भर्ती के आक्रोशित अभ्यर्थियों का कहना है कि सरकार को जब नई शिक्षक भर्ती नहीं निकालनी है तो प्रतिवर्ष लाखों अभ्यर्थियों को बीएड व डीएलएड क्यों कराया जाता है इसे बंद कर देना चाहिए। नई शिक्षक भर्ती के लिए प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थियों का स्पष्ट रूप से कहना है कि अगर सरकार द्वारा नई शिक्षक भर्ती की घोषणा जल्द नहीं की गई तो बहुत जल्द लखनऊ में भारी संख्या बल के साथ बेसिक शिक्षा मंत्री संदीप सिंह के आवास पर विशाल धरना-प्रदर्शन किया जाएगा तथा विधानसभा एवं भाजपा कार्यालय का भी घेराव भी किया जाएगा।

What does "money" mean to you?
  • Add your answer
error: Content is protected !!